गति-अधिनियंत्रक क्या हैं ?

गति-अधिनियंत्रक (Governor) – गति-अधिनियंत्रक का कार्य इंजन पर भार के अनुसार उसकी औसत गति को बनाए रखना है। अर्थात् इंजन पर भार वृद्धि होने की दिशा में यह आवश्यक हो जाता है, कि अधिक ईंधन को सिलिंडर में भेजा जाए। जबकि इंजन पर भार में कमी होने की दशा में कम ईंधन की आवश्यकता पढ़ती है।

गति-अधिनियंत्रक (governor) इंजन पर भार परिवर्तन की दिशा में आवश्यकतानुसार कम याअधिक ईंधन की मात्रा को नियंत्रण कर, इंजन की गति को एक निश्चित सीमा के अंदर बनाए रखता है। इंजन पर अधिक भार लगाने की दशा में उसकी कार्य करने की गति घट जाती है।

जिसके कारण एक निश्चित कार्य अधिक समय में होता है। अत: इंजन की औसत गति को बनाए रखने के लिए अधिक कार्यकारी तरल पदार्थ या ईंधन की आवश्यकता होगी।

इसके विपरीत इंजन पर कम भार की अवस्था में उसकी गति में वृद्धि हो जाएगी, जिसकों कम ईंधन कीमात्रा भेजकर एक निश्चित गति सीमा के अंदर रखना आवश्यक है। गति अधिनियंत्रक (govermor) यह कार्य स्वयं ही करतारहता है।

Leave a Comment